NEW DELHI WEATHER
Breaking News
prev next

कठुआ रेप कांड: कोर्ट ने तीन आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई, तीन को 5-5 साल की सजा

Image Source : Google

Kathua Gangrape Murder case: जम्मू-कश्मीर के कठुआ में मंदिर के सेवादार और ग्राम प्रधान सांझी राम ने बच्ची के मंदिर में ही बंधक बनाकर रखा था. वहां बच्ची के साथ पूरे 8 दिन तक रेप किया गया. 15 पन्नों की चार्जशीट में इसका जिक्र है.

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में बंजारा समुदाय की आठ साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के मामले में पंजाब स्थित पठानकोट स्पेशल कोर्ट ने सोमवार को फैसला सुनाते हुए सात आरोपियों में से छह को दोषी करार दिया. दोषी करार दिए गए आरोपियों में सांजी राम, दो पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया, सुरेंद्र कुमार, हेड कांस्टेबल तिलक राज , प्रवेश कुमार और आनंद दत्ता शामिल है. वहीं सांजी राम के बेटे विशाल को बरी कर दिया गया है.

कोर्ट ने सोमवार को ही दोषियों की सजा का ऐलान भी किया. तीन दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. मास्टरमाइंड सांझी राम, परवेश और दीपक खजूरिया को उम्र कैद की सजा सुनाई गई है. इन्हें मृत्यु तक जेल में ही रहना होगा. वहीं तीनों पुलिसकर्मियों जिन्होंने सबूत मिटाने में मदद की थी उन पर 50-50 हजार का जुर्माना  और 5-5 साल की सजा सुनाई गई है.

पिछले साल जून में शुरू हुई थी पठानकोट में सुनवाई

देश-दुनिया को झकझोर देने वाले इस मामले में बंद कमरे में सुनवाई 3 जून को पूरी हुई थी. कठुआ में फैसला सुनाए जाने के मद्देनजर अदालत और उसके आसपास कड़े सुरक्षा बंदोबस्त किये गए थे. 15 पन्नों की चार्जशीट के अनुसार, पिछले साल 10 जनवरी को अगवा की गई आठ साल की बच्ची को कठुआ जिले के एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर उसके साथ कई दिनों तक दरिंदगी की गई. बाद में उसकी हत्या कर दी गई.

मामले में रोजाना हुई सुनवाई
मामले में रोजाना आधार पर सुनवाई पड़ोसी राज्य पंजाब के पठानकोट में जिला और सत्र अदालत में पिछले साल जून के पहले सप्ताह में शुरू हुई थी. सुप्रीम कोर्ट ने मामले को जम्मू कश्मीर से बाहर भेजने का आदेश दिया था, जिसके बाद जम्मू से करीब 100 किलोमीटर और कठुआ से 30 किलोमीटर दूर पठानकोट की अदालत में मामले को भेजा गया.

सुप्रीम कोर्ट का आदेश तब आया था, जब कठुआ में वकीलों ने क्राइम ब्रांच के अधिकारियों को इस सनसनीखेज मामले में चार्जशीट दाखिल करने से रोका था. इस मामले में अभियोजन दल में जे के चोपड़ा, एस एस बसरा और हरमिंदर सिंह शामिल थे.

यह लोग हैं दोषी
क्राइम ब्रांच ने इस मामले में ग्राम प्रधान सांजी राम, उसके बेटे विशाल, किशोर भतीजे व उसके दोस्त आनंद दत्ता को गिरफ्तार किया था. इस मामले में दो विशेष पुलिस अधिकारियों दीपक खजुरिया और सुरेंद्र वर्मा को भी गिरफ्तार किया गया था. सांजी राम से कथित तौर पर चार लाख रुपये लेने और महत्वपूर्ण सबूतों को नष्ट करने के मामले में हेड कांस्टेबल तिलक राज और एसआई आनंद दत्ता को भी गिरफ्तार किया गया था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


three × 1 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.